Header Ads

Big News- राजस्थान से यह सांसद बन सकते है मोदी सरकार के मंत्री

जयपुर

आज पूरे देश में सबसे बड़ी चर्चा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरी बार शपथ ग्रहण और मोदी सरकार में मंत्रिपरिषद की शपथ ग्रहण की है। प्रधानमंत्री मोदी की मंत्रिपरिषद में कौन-कौन से चेहरे शामिल होंगे, इस को लेकर देश का मीडिया व लोग तरह-तरह के कयास लगा रहे हैं। राजस्थान की सभी 25 सीटों पर एनडीए ने जीत दर्ज की है। प्रदेश में लगातार दूसरी बार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का सूपड़ा साफ हुआ है।




राजस्थान की जनता को भी यह उम्मीद है कि इस बार मोदी सरकार में कम-से-कम प्रदेश से पांच मंत्री बनेंगे। राजस्थान से मंत्री पद की रेस में सबसे बड़े नाम जोधपुर सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत, नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल और बीकानेर सांसद अर्जुन राम मेघवाल का है। जयपुर ग्रामीण से निर्वाचित हुए सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और पूर्व सीएम वसुंधरा राज्य के पुत्र झालावाड़ सांसद दुष्यंत सिंह का नाम भी मंत्री पद की दौड़ में शामिल है। इनके अलावा किरोड़ी लाल मीणा व दिया कुमारी का नाम भी चर्चा में है।

जोधपुर से सांसद निर्वाचित हुए विगत राजपूत नेता गजेंद्र सिंह शेखावत मोदी के पिछले कार्यकाल में भी केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं। उन्होंने जोधपुर में राजस्थान की राजनीति के जादूगर अशोक गहलोत के पुत्र वैभव को चुनाव मैदान में परास्त किया है। शेखावत केंद्रीय नेतृत्व के पसंदीदा नेता माने जाते हैं। इस कारण शेखावत को इस बार भी मोदी सरकार में बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती हैं।

राजस्थान के फायरब्रांड नेता हनुमान बेनीवाल से भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव में गठबंधन किया था। बीजेपी ने बेनीवाल की पार्टी आरएलपी के लिए नागौर की सीट खाली छोड़ी थी जहां से बेनीवाल खुद जीतकर सांसद निर्वाचित हुए हैं। बेनीवाल को वर्तमान में उत्तरी भारत का सबसे उभरता जाट नेता माना जाता है। आर एस एस भी बेनीवाल को काफी पसंद करता है। लोकसभा चुनाव में बेनीवाल के साथ गठबंधन का बीजेपी को मारवाड़ व शेखावाटी में काफी फायदा मिला था, इसी कारण गठबंधन धर्म का पालन करते हुए तथा बेनीवाल की लोकप्रियता का फायदा उठाने के लिए मोदी सरकार उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दे सकती हैं।




बीकानेर से लगातार तीसरी बार सांसद निर्वाचित हुए अर्जुन राम मेघवाल भी मंत्री पद के प्रबल दावेदार हैं। अर्जुन राम मेघवाल मोदी के पिछले कार्यकाल में भी केंद्रीय मंत्री की भूमिका में थे। मेघवाल को दलित समाज का बड़ा नेता माना जाता है, इस कारण उन पर भी फिर से दांव खेला जा सकता है। झालावाड़ से दुष्यंत सिंह लगातार चौथी बार सांसद निर्वाचित हुए हैं। वसुंधरा राजे उन्हें भी मंत्रिपरिषद में शामिल करवाने के लिए पूरा प्रयास कर रही हैं। 

इसके अलावा जयपुर ग्रामीण से सांसद निर्वाचित हुए राज्यवर्धन सिंह राठौड़ का नाम भी मंत्री पद की दौड़ में काफी आगे हैं। राठौड़ को मोदी सरकार ने पिछले कार्यकाल में भी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी थी। इस बार भी राजस्थान से राज्यवर्धन सिंह राठौड़ मोदी मंत्रिपरिषद में शामिल हो सकते हैं। राज्यसभा सांसद किरोडी लाल मीणा का नाम भी मंत्री पद को लेकर चर्चा में हैं। अब देखने वाली बात यह है कि आज शाम तक राजस्थान से कितने सांसदों को मोदी सरकार केंद्रीय मंत्री के रूप में चुनती है।

No comments