Header Ads

बीजेपी को इस राज्‍य में सता रहा बगावत का डर, फूंक-फूंककर कदम उठा रही है पार्टी

बीजेपी को डर है कि कहीं उनके कार्यकर्ता बगावत पर न उतर आएं. अगर पार्टी में किसी तरह की बगावत होती है तो बीजेपी के 220 सीटें पाने के लक्ष्य को धक्‍का लग सकता है.
बीजेपी को इस राज्‍य में सता रहा बगावत का डर

ख़ास बातें

  • बगावत रोकने के लिए खास स्‍ट्रैटजी पर काम कर रही है बीजेपी
  • पुणे में ब्राह्मण समुदाय ने चंद्रकांत पाटील का किया विरोध
  • सीएम फड़नवीस नागपुर दक्षिण पश्‍चिम से और पंकजा मुंडे पर्ली से लड़ेंगी
नई दिल्‍ली :
विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) से पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) को महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में बगावत का डर सता रहा है. इसलिए पार्टी फूंक-फूंककर कदम उठा रही है. बताया जा रहा है कि इसी बगावत के डर से पार्टी ने सभी उम्‍मीदवारों का ऐलान नहीं किया है. अभी प्रमुख नेताओं के ही विधानसभा चुनाव में प्रत्‍याशी बनाने की घोषणा की गई है. पिछले कुछ माह में बीजेपी (BJP) में कांग्रेस (Congress) और एनसीपी (NCP) से कई नेता शामिल हुए हैं. इस कारण पार्टी के कार्यकर्ताओं को डर सता रहा है कि कही उनका पत्‍ता गोल न हो जाए. इसी कारण बीजेपी को लगता है कि कहीं उनके कार्यकर्ता बगावत पर न उतर आएं. अगर पार्टी में किसी तरह की बगावत होती है तो बीजेपी के 220 सीटें पाने के लक्ष्य को धक्‍का लग सकता है.
बताया जा रहा है कि पुणे (Pune) से चंद्रकांत पाटील (Chandrakant Patil) के चुनाव लड़ने की अटकलों के बीच ब्राह्मण समुदाय (Bramhin) ने उनका विरोध किया है. ब्राह्मणों ने पुणे से किसी ब्राह्मण प्रत्‍याशी पर दांव लगाने की सलाह बीजेपी को दी है. प्रदेश कार्यालय तक यह बात पहुंच गई है. खबर है कि इसके बाद बीजेपी कोई रिस्‍क मोल लेना नहीं चाहती है. इस कारण बीजेपी आजमाया हुआ दांव चलने की तैयारी में है. बताया जा रहा है कि बीजेपी नामांकन से 24 घंटे पहले ही प्रत्‍याशियों की घोषणा करेगी, ताकि जिनके टिकट कटेंगे उनके लिए किसी दूसरी पार्टी से टिकट लेने का मौका न मिले और वे पार्टी में बने रहें.
एक दिन पहले ही बीजेपी ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को नागपुर दक्षिण पश्‍चिम से और स्‍व. गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे को पर्ली से प्रत्‍याशी बनाने का फैसला किया था. कांग्रेस से बीजेपी में आए राधाकृष्‍ण विखे पाटिल को भी प्रत्‍याशी बनाया गया है.
संदर्भ पढ़ें

No comments