Header Ads

लड़के ने PM मोदी की भतीजी का पर्स क्यों छीना था, ये जानकर सर पकड़ लेंगे


दिल्ली पुलिस ने पीएम मोदी की भतीजी दमयंती बेन का पर्स छीनने वाले दोनों आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. नोनू उर्फ गौरव (21) को 12 अक्टूबर की रात सोनीपत (हरियाणा) से गिरफ्तार कर लिया गया था. और बादल उर्फ आकाश (22) को 13 अक्टूबर को सुल्तानपुरी (दिल्ली) गिरफ्तार किया गया है.
पीएम मोदी की भतीजी का केस था. मतलब हाईप्रोफाइल. तो इसे सॉल्व करने के लिए करीब 700 पुलिस लगाई गईं थीं. स्नैचर्स को पकड़ने के लिए पुलिस ने करीब 200 सीसीटीवी फुटेज खंगाले. तब जाकर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. हालांकि ऐसा आम लोगों के केस नहीं किया जाता है. खैर.
आरोपियों ने छिनैती के समय जिस स्कूटी का इस्तेमाल किया था, उसे नोनू ने सुल्तानपुरी में अपनी मौसी के घर पर रख दिया था. जो अब पुलिस ने बरामद कर ली है.
स्कूटी मौसी के यहां रखकर नोनू सोनीपत भाग गया था.
पुलिस के मुताबिक, आरोपी स्नैचिंग करने के बाद सीधे सदर बाज़ार के जुल्हान इलाके में पहुंचे. फिर वहां पर एक इमारत की छत पर जाकर लूटे हुए सामान को बराबर हिस्सों में बांटा लिया. फिर बैग के सारे डाक्यूमेंट्स निकालकर वहीं फेंक दिए. और दोनों सुल्तानपुरी चले गए. नोनू ने बादल को उसके घर छोड़ा और वो अपनी मौसी के यहां चला गया. जहां से उसकी स्कूटी मिली थी.

दोनों भागे कैसे?

पुलिस ने जब उससे पूछताछ की तो बताया कि उसका जन्म सदर बाजार में हुआ था. उसके भाई और पापा को नशा करने की आदत थी. और इन्हीं लोगों से उसको भी नशे की लत लग गई थी. दोनों के गुजर जाने के बाद नोनू सुल्तानपुरी में रहने चला गया था. और इसी लत को पूरा करना चाहता था.
वहीं उसकी मुलाकात बादल से हुई थी. उस दिन दोनों को ड्रग्स चाहिए था. पैसे नहीं थे, तो उन्होंने दमयंती बेन का एक किलोमीटर तक पीछा किया. मौका देखते ही पर्स छीन लिया. और फिर ड्रग्स खरीदा. उसके बाद सुल्तानपुरी चले गए. घर पहुंचकर टीवी पर खबर देखी. नोनू ने बादल को कॉल किया. बात हुई और फिर फोन स्विच ऑफ कर दिया. इसके बाद नोनू वहां से सोनीपत चला गया. अपनी पत्नी का फोन इस्तेमाल कर रहा था, जिसे पुलिस ट्रेस कर रही थी. लोकेशन मिलते ही उसे गिरफ्तार कर लिया.
फोन स्विच ऑफ करके बादल सुल्तानपुरी में छिपा हुआ था. अब गिरफ्तार कर लिया गया है.
पुलिस ने बताया कि जब नोनू 16 साल का था, तब वो स्नैचिंग के मामले में पकड़ा गया था. साथ ही उसके खिलाफ कुछ और केस भी दर्ज थे. मतलब पुलिस ने दो दिन में ये मामला सुलझा दिया और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. इसी पर लोग पुलिस से सोशल मीडिया पर खुद के साथ हुए स्नैचिंग के मामले पर एक्शन लेने और इतनी ही जल्दी कार्रवाई की आशा कर रहे हैं.
उधर, बीजेपी सांसद मनोज तिवारी और अरविंद केजरीवाल अपना ही राग अलाप रहे हैं. दिल्ली सीएम केजरीवाल का कहना है कि उनकी सरकार की ओर से लगाए गए सीसीटीवी से स्नैचर पकड़े गए हैं. वहीं, बीजेपी सांसद मनोज तिवारी का कहना है कि घुसपैठियों की वजह से इस तरह के अपराध हो रहे हैं. जिन्हें रोकने के लिए दिल्ली में एनआरसी लागू करनी चाहिए.
वीडियो देखें : पीएम नरेंद्र मोदी के छोटे भाई प्रहलाद मोदी की बेटी दमयंती बेन से लूटपाट
संदर्भ पढ़ें

No comments